MY THIRD BOOK

MY THIRD BOOK
मेरी तीसरी प्रकाशित पुस्तक (मई में प्रकाशित होगी)

गुरुवार, 30 मई 2013

रचना...??? ....


रचना 

किसने रचाया संसार,
किसने रचा जीव,
किसने जीवन बनाया
किसने इंसान को दिल,
और दिल को स्पंदन दिया.
किसने मन रचा और
मन को भावनाएँ दीं,

आज यह इंसान,
प्रकृति पर जीत चाहता है
यद वह सत्यापित करना चाहता है कि
रचनाकार की रचना से बढ़कर,
वह रच सकता है.

आज,
वह अपने रचयिता की रचना को,
ललकार रहा है.

मेंढ़क कुएं की दीवार को,
हर तरफ जाकर छू रहा है,
और समझता है कि,
मैं अब समुंदर की सीमाएं,
जान चुका हूँ.
.................................................

एम.आर.अयंगर.
एक टिप्पणी भेजें