मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.

मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल  मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.
मन दर्पण

गुरुवार, 31 मार्च 2011

छींटाकशी-2

छींटाकशी -2

बोलिए हिंदी सरल है,
इसको सभी अपनाइए,
खुद जटिल हिंदी के परचे,
आप बाँटे जाइए.
...........................................

दो बूंद नयनों से गिरा,
दुख दर्द सारा धो लिया,
वरदान क्यों माँगे न कोई,
जब जी में आया रो लिया.
..................................

झुंझला के तुमने जैसे,
झिड़का था एक बार,
फिर एक बार वैसा ही अपना,
मुखड़ा सँवार लो.
...........................................

कैसे सुनाई दे मुझे,
जो जुबाँ तेरी कह रही,
शोरगुल जो कर रहे,
तेरे ये दो चंचल नयन.
.........................................
इशारों के तुम्हारे भी,
अदा यूँ हसीन होती है,
मत छूना मुझे,
मुझको बड़ी तकलाफ होती है,
अगर आदम ने हव्वा से,
कहा होता कि मत छूना,
न होता सार जीवन का,
न यह संसार ही होता.
.............................................

एक टिप्पणी भेजें