मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.

मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल  मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.
मन दर्पण

मंगलवार, 29 मार्च 2011

बिंब - प्रति

बिंब प्रति

इस दुनियाँ की होड़ में मुझे ,
मिल जाए जो कुछ चाहूँ,
इसी दौड़ में इक दिन गर मै,
बादशाह भी कहलाऊं,

चैन नहीं आएगा मुझको,
पाकर सब कुछ दुनियाँ से,
जब तक शांत न हो मेरा मन,
जाकर सम्मुख दर्पण के .

अपनों, गैरों की चाहत पर,
करता नहीं समर्पण मैं,
मिलता चैन मुझे जिन सबसे,
वह सब कुछ ही करता मैं .

कद्र करुं, उसके निर्णय का,
जो दर्पण से है घूर रहा,
हँसता वह मुझ पर अपनों में,
यदि उससे मैं दूर रहा .

सोचूं हरदम शीशेवाला,
क्या मुझसे कहना चाहे,
जाकर सम्मख मैं दर्पण के,
डरता हूं भरता आहें .



संग रहेगा अंत तक मेरे,
दर्पण के पीछे वह यार,
कहता गर तुम सच्चे हो तो,
कर लो मुझसे आँखें चार .
......................................

एक टिप्पणी भेजें