मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.

मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल  मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.
मन दर्पण

शुक्रवार, 1 नवंबर 2013

ललकार



   ललकार

भोर सवेरे हिम मोती से,
सँवर रही है धरती,
लगा, रात भर ललकारे थी,
धरती नीलाम्बर को,
"देख, तुम्हारे तारों से भी,
ज्यादा तारे पास मेरे,
हर कण पर मोती जड़वाए,
लहराते हैं घास मेरे"

--------------------------------

एक टिप्पणी भेजें