मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.

मेरी पुस्तक "मन दर्पण" का कवर - अप्रेल  मध्य तक प्रकाशित होने की संभावना.
मन दर्पण

रविवार, 10 मार्च 2013

छुपन - छुपाई


              छुपन - छुपाई


                  झरोखे से माठी सुगंध आ रही है,

                  तुम यहीं पास मेरे कहीं पर छुपी हो,

                  रोशनी ये मद्धिम कहे जा रही है,

                  चेहरे को घूंघट से ढँक कर खड़ी हो,


                  उस दिन ग्रहण सूर्य का जब हुआ था,

                  तो ऐसा ही शीतल सुगंधित समाँ था,
               
                  चाँद पूनम का जब ओट बादल छुपा था,

                  उजाला भी मद्धम इसी तरह का था,

                  सताती हो ऐसे तुम अल्हड़ बड़ी हो,

                  दूर पर ही सही, पर क्यों छुप कर खड़ी हो?



                                   एम.आर.अयंगर.
एक टिप्पणी भेजें